सरकार ने भेजे जन धन खाते में 500 रूपये, जब लेने पहुंची तो चुकाने पड़ गए 10,000 रूपये

जानकारी के अनुसार MP के भिंड इलाके की रहने वाली एक महिला संतोष शाक्य उन 39 महिलयो के साथ थी, जिन्होंने लॉक डाउन का उल्लंघन किया था। संतोष ने बताया कि वे अपने पति, सास और तीन बच्चो के साथ रहती है। उनके पति सिलाई का काम करते है। 

ऐसे में वे जो कमाते थे, उसी से उनका गुजारा होता था लेकिन अब लॉक डाउन की वजह से वो बेरोजगार है। ऐसे में जब उन्हें पता चला कि उनके अकाउंट में पैसे आये है, तो वे नजदीकी SBI के कीऑस्क सेण्टर चली गयी।  लेकिन तभी वहां आकर पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया और उन्हें एक विद्यालय में बनाई गयी अस्थायी जेल में बंद कर दिया।

इसके बाद शाम को उन्हें 6 बजे 10000 की जमानत पर छोड़ा गया। उन्होंने बताया कि उनको 5 घंटे कैद में रखा गया। अब संतोष इस वाकये से इतना डर गयी है कि उसने 500 रूपये लेने से भी मना कर दिया है। बता दे जिस आरोप के लिए पुलिस ने इन्हे गिरफ्तार किया था, उसी को ठेंगा दिखते हुए पुलिस ने सभी महिलाओं को पुलिस वैन में ठूंसा और अस्थायी जेल में बंद कर दिया। 
close