जिस बच्चे के जन्म पर उसके मर जाने की प्रार्थना करते थे, उस बच्चे ने खड़ा किया 50 करोड़ का कारोबार

12वीं क्लास में जब वह साइंस स्ट्रीम से पढ़ना चाहते थे तो आंध्र प्रदेश एजुकेशन बोर्ड ने दाखिला देने से साफ मना कर दिया। बोर्ड ने कहा कि ब्लाइंड स्टूडेंट्स के लिए सिर्फ आर्ट्स स्ट्रीम का ही विकल्प है। श्रीकांत बोर्ड के इस रुख के खिलाफ अदालत गए, अपने पक्ष में फैसला लेकर आए और 12वीं की परीक्षा में 98 फीसदी मार्क्स हासिल किया। 12वीं के बाद वह इंजीनियरिंग करना चाह रहे थे लेकिन शारीरिक अक्षमता के नाते यहां भी भेदभाव का सामना करना पड़ा। उन्हें IIT प्रबंधन ने एडमिट कार्ड तक नहीं दिया।इमेज सोर्स :- गूगल न्यूज़

यही वह क्षण था जब श्रीकांत ने विदेश में पढ़ने का फैसला किया। उन्हें MIT, Stanford, Berkeley और Carnegie Mellon जैसे संस्थानों से एडमिशन का ऑफर आया। आखिर में उन्होंने MIT में दाख़िला लिया। अपनी इस सफलता पर श्रीकांत कहते हैं, ‘दुनिया मेरी तरफ देखकर कहती थी कि तुम कुछ नहीं कर सकते लेकिन मैं पलटकर दुनिया से कहता था कि मैं कुछ भी कर सकता हूं।’ पढ़ाई पूरी करने के बाद श्रीकांत वहीं नौकरी पा सकते थे लेकिन लौटकर हैदराबाद आए। जीवन में उन्होंने जो कुछ झेला था, वो नहीं चाहते थे कि दूसरों को भी वैसी ही चुनौतियों का सामना करना पड़े।

हैदराबाद में उन्होंने ब्लाइंड लोगों के लिए ब्रेल लिपि को लोकप्रिय बनाया। एक डिजिटल लाइब्रेरी खड़ी की और ब्रेल प्रिंटिंग प्रेस की स्थापना की ताकि ऐसे बच्चों को पढ़ाया जा सके। 2010 में वह एक कदम और आगे गए। उन्होंने बोल्लांत इंडस्ट्रीज़ प्राइवेट लिमिटेड नाम की कंपनी बनाई ताकि शारीरिक रूप से अपंग लोगों को रोज़गार दे सकें। इस कंपनी में पत्ते की प्लेट, कप, ट्रे और डिनर सेट जैसी चीजें बनाई जाने लगीं।


close