मस्जिद में रुके जमाती को समझाने आई पुलिस पर पत्थरबाजी-फायरिंग, 6 जवानों संग जख्मी हुए 8 लोग, पुलिस को एक किमी तक खदेड़ा

स्थानीय लोगों ने पुलिस को करीब एक किलोमीटर मदरसा हनफीया तक खदेड़ दिया। बचाव में पुलिस ने भी लोगों पर बल का प्रयोग किया है। ग्रामीणों ने पुलिस वाहन को बगल के तालाब में उल्टा दिया। इस घटना में आधे दर्जन पुलिस और दो ग्रामीणों को जख्मी होने की सूचना मिल रही है। पुलिस के साथ हुए पथराव में मस्जिद में ठहरे जमाती भागने में कामयाब रहे। उल्लेखनीय है कि कोरोना वायरस को लेकर 22 मार्च से जिले में लॉकडाउन है। दिल्ली स्थित निजामुद्दीन मगरिव की तरह गीदड़गंज गांव में के मस्जिद में भी सैकड़ों के संख्या में जमाती ठहरे हुए थे।

गांव में कैंप कर रही है पुलिस, माहौल तनावपूर्ण

बीते दिनों नमाज के समय अंधराठाढ़ी थाना पुलिस दल बल के साथ पहुंची। मस्जिद में लॉकडाउन के उल्लंघन करते नमाजियों नमाज अदा कर रहे थे। वे सभी बिना मास्क पहने दूरी की ख्याल को नजर अंदाज कर रहे थे। पुलिस के पहुंचते ही स्थानीय लोगों ने पुलिस पर पथराव करते हुए गोली चला दी। उल्लेखनीय है कि गीदड़गंज गांव में एक ही समुदाय अल्पसंख्यक लोग है। घटना वर्तमान मुखिया ओजेरा खातून के घर के बगल में हुई हैं। पुलिस पर गोली चलाने वाली उसी मोहल्ले के मो. मुसवा एवं अन्य बताए जाते हैं। घटना के बाद अंधराठाढ़ी थाना पुलिस किसी तरह जान बचाते हुए वहां से निकली। इस घटना के बाद पुलिस के एक दल को गांव में तैनात किया गया है। 
close