अंधविश्वास : गौमूत्र पीकर बीमार हुआ भक्त, गौमूत्र पार्टी रखने वाला BJP कार्यकर्ता गिरफ्तार

गौमूत्र को कोरोना वायरस का रामबाण इलाज बताया जा रहा है। कई हिंदुत्ववादी संगठनों और बीजेपी के लोगों द्वारा दावा किया जा रहा है कि गौमूत्र के सेवन से कोरोना वायरस से बचा जा सकता है। लेकिन ये दावे कितने बेबुनियाद हैं, इसकी एक बानगी तब देखने को मिली जब कोलकाता में गौमूत्र पीने से एक नागरिक स्वयंसेवक बीमार पड़ गया। जिसके बाद गौमूत्र पिलाने वाले बीजेपी कार्यकर्ता को गिरफ्तार कर लिया गया।

Third party image reference
दरअसल, सोमवार को उत्तरी कोलकाता में बीजेपी के कार्यकर्ता 40 वर्षीय नारायण चटर्जी ने एक गौशाला में गौमूत्र पार्टी का आयोजन किया था। इस दौरान उन्होंने कई लोगों को गोमूत्र ये कहकर पिलाया था कि इसके सेवन से कोरोना वायरस से बचा जा सकता है बीजेपी कार्यकर्ता ने ये दावा भी किया था कि गौमूत्र पहले से वायरस से संक्रमित लोगों को भी ठीक कर सकता है। चटर्जी के इस दावे पर भरोसा करते हुए एक नागरिक स्वयंसेवक ने भी गौमूत्र का सेवन कर लिया और वह बीमार पड़ गया। जिसके बाद उसने चटर्जी के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई।
शिकायत पर कार्रवाई करते हुए पुलिस ने बीजेपी कार्यकर्ता को गिरफ्तार कर लिया। वहीं बीजेपी ने इस गिरफ्तारी पर ऐतराज़ जताया है। पश्चिम बंगाल के भाजपा प्रमुख दिलीप घोष ने कहा है कि गोमूत्र पीने से कोई नुकसान नहीं है और उन्हें इसका सेवन करने में कोई हिचक नहीं है गौमूत्र पीने से नुकसान हो या न हो, लेकिन ये कहीं से साबित नहीं हुआ है कि इसके सेवन से कोरोना से बचा जा सकता है। ऐसे में किसी को झूठ बोलकर गौमूत्र पिलाने को क्या धोखा नहीं समझा जाना चाहिए? ऐसा नहीं है कि गौमूत्र को वायरस का इलाज बताकर सिर्फ कोलकाता में ही इस तरह की पार्टी का आयोजन किया गया इससे पहले हाल 14 मार्च को दिल्ली में अखिल भारतीय हिंदू महासभा की ओर से गोमूत्र पार्टी का आयोजन किया गया था। जानकारी के मुताबिक, इस पार्टी में करीब 200 लोग शामिल हुए थे, जिन्होंने गोमूत्र पिया था। इस पार्टी के आयोजकों ने भी कोरोना वायरस को भगाने के लिए पार्टी के आयोजन का दावा किया था और यह भी कहा था कि ऐसी ही पार्टियों का आयोजन वो पूरे देश में करेंगे।
close