ब्लीडिंग से परेशान महिला को डॉक्टर ने बताया कोरोना की आशंका, फिर आइसोलेशन वार्ड में डालकर दो दिन तक किया रेप, दरिंदा यहाँ पर भी नही रुका

बोलता हिंदुस्तान में छपी खबर के अनुसार एक 24 वर्षीय महिला अपने पति के साथ पंजाब के लुधियाना से बिहार आई थी। 25 मार्च को बिहार आई इस महिला को 2 दिन बाद ही अस्पताल जाना पड़ा क्योंकि लुधियाना में रहने के दौरान अधिक रक्तस्राव की वजह से महिला को अबॉर्शन करवाना पड़ा था।

जिसके बाद 27 मार्च को पति ने उसे गया के अनुग्रह नारायण मेडिकल कॉलेज के अस्पताल में भर्ती करवाया, जहां इलाज के बाद 1 अप्रैल को कोरोना की आशंका के चलते उसे आइसोलेशन वार्ड में रखा गया। आइसोलेशन वार्ड में यह महिला अकेली रहती थी। आरोप है कि नियमित जांच करने वाला डॉक्टर उसके साथ बलात्कार करता था। फिर महिला की रिपोर्ट कोरोना नेगेटिव आने पर 3 अप्रैल को उसे अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया, मगर इसके बाद भी महिला का रक्त स्राव नहीं रुका।

बहू को डरी सहमी देखकर जब सास ने पूछा तो उसने बताया-‘माथे पर टीका लगाकर आइसोलेशन वार्ड में आने वाले चिकित्सक ने मेरे साथ बलात्कार किया। यह बात मैंने सुरक्षाकर्मी को बताई तो उसने इज़्ज़त की दुहाई देते हुए चुप रहने की नसीहत दी। इसके बाद उस डॉक्टर ने दूसरी रात भी मेरे साथ रेप किया।
close