जिस बेटी को बड़े नाज से पाला, मोहब्बत करने पर उसको ही परिवार ने दे दिया बेहद खौफनाक सजा

धनसिया के ग्राम प्रधान विमलेश देवी का बेटा सुनील और दस्तमपुर निवासी देवीचरण की बेटी निशा ने 12वीं की परीक्षा पास करने के बाद से ही खुर्जा के एनआरईसी कॉलेज में स्नातक के लिए दाखिला लिया था। सुनील ने बीएससी और निशा ने बीए में प्रवेश लिया। कॉलेज में पढ़ाई करने के दौरान ही दोनों के बीच नजदीकियां बढ़ीं और प्यार परवान चढ़ा। इसके बाद निशा ने डबल एमए और बीएड की डिग्री ले लिया। सुनील ने भी बीएड किया। निशा के पिता बीएसएफ में तैनात हैं, जबकि सुनील के पिता धनसिया के ग्राम प्रधान और एक कंपनी में मैनेजर हैं।

कुछ दिनों के बाद जब दोनों के परिजनों को उनके संबंध की जानकारी मिल गई तो दोनों को अलग करने का प्रयास किया गया। शायद उन्हें इस बात का अंदाजा हो गया था कि परिवार वाले उनके रिश्ते को स्वीकार करने से मना कर सकते हैं, इसलिए दोनों ने एक साल पहले ही गाजियाबाद जाकर कोर्ट मैरिज कर लिया था। दोनों के परिजन इस शादी से बेहद नाखुश थे और फिर बाद में इस मामले को लेकर दोनों परिवारों के बीच सहमती बनी कि लड़की के पिता के रिटायर हो जाने के बाद पूरे रीति रिवाज के साथ दोनों की शादी कर दी जाएगी। 
इस फैसले के बाद से युवती अपने मायके दस्तमपुर में रहने लगी। गुरुवार को ही निशा, मां ऊषा के साथ पड़ोस के एक महिला संगीत कार्यक्रम में गई थी। रात करीब 12 बजे कार्यक्रम से लौटने के बाद परिजनों ने निशा को छत पर भेज दिया। जहां पर उसकी गोली मारकर हत्या कर दी गई। ग्रामीणों ने पुलिस व पति सुनील को निशा की मौत होने की जानकारी दे दी।
close