कोरोना के डर में भूले मानवता..आधी रात में महिला को धक्के देकर घर से निकाला, बेटे को गोद में लेकर गिड़गिड़ती रही फिर भी नही पसीजा दिल

दरअसल, यह दुखद घटना सुरत शहर में मंगलवार को देखने को मिली। जहां एक राधिका गामित नाम की महिला मैटरनिटी लीव से व्यारा से सूरत वापस आई थी। लेकिन उसकी सोसाइटी वालों ने महिला को आधी रात को घर से बाहर निकाल दिया। उसके साथ उसका पति और एक ढाई महीने का बच्चा भी था। शिक्षिका  मोहल्ले वालों के सामने गिडगिड़ाती रही मुझको जाने दो, बच्चे को नींद आ रही है। वह रो रही है, प्लीज मुझको कोई कोरोना नहीं है।

घर ने बाहर निकाल ने की दी धमकी

काफी देर तक हंगामा होता रहा, सूचना मिलते ही मौके पर पुलिस भी पहुंच गई। जहां पीड़िता ने बताया कि वह टीचर है और यहां के एक स्कूल में पढ़ाती है। लेकिन इसके बावजूद भी कॉलोनी वालों ने कोरोना के नाम पर घर से बाहर सामान फेंकने और महिला को कमरा खाली कराने धमकी देते रहे। पुलिस ने समझाने की कोशिश की, लेकिन नहीं माने।
close