जिन्दा प्रोफेसर को कोविड का डॉक्टर बता कर कह दिया कोरोना से मर गयी, जब महिला प्रोफेसर बोलीं : "सर, मैं जिंदा हूं", जानिए ऐसा क्या हुआ

मामला गाजियाबाद के इंदिरापुरम थाना क्षेत्र के वैशाली इलाके का है। वहां पर कोरोना हॉटस्पॉट इलाके में रह रही वंदना तिवारी सोमवार को थाने पहुंचीं। उन्होंने एक शिकायत दर्ज कराई है। शिकायत में कहा गया है कि वह जिंदा हैं, लेकिन कुछ लोगों ने सोशल मीडिया पर उन्हें मरा हुआ बताया है।

दरअसल, मध्य प्रदेश की रहने वाली एक महिला डॉक्टर की कुछ दिन पहले मौत हो गई थी। मृतक महिला से संबंधित एक फर्जी पोस्ट वायरल की गई। इसमें कहा गया कि कोविड-19 के इलाज में लगी इस महिला की मौत हो गई है। पोस्ट में वैशाली की रहने वाली प्रोफेसर वंदना तिवारी का फोटो लगा दिया गया। फोटो पर बाकायदा माला भी चढ़ाई हुई है। पोस्ट काफी वायरल हो रही है। जैसे ही वंदना तिवारी ने खुद इस पोस्ट को देखा तो वह काफी परेशान हो गई। सोमवार को उन्होंने थाने में जाकर शिकायत की है। पुलिस को उन्होंने बताया कि वह जिंदा हैं।
वंदना तिवारी का कहना है कि वह दिल्ली यूनिवर्सिटी की अध्यापिका हैं। जैसे ही उनके रिश्तेदार और उनके छात्र छात्राओं ने उनकी फोटो फेसबुक पर लगी देखी तो वे हैरान रह गए। उसमें बाकायदा उन्हें मृतक दिखाया गया और फोटो पर माला चढ़ी हुई दिखाई गई। इसके बाद उनके पास लगातार उनके रिश्तेदार और छात्र-छात्राओं के फोन आने लगे। पोस्ट उस पर लाखों लाइक भी आए हुए थे। पोस्ट काफी वायरल हो चुकी है। इसके बाद से वंदना तिवारी और उनके पति मानसिक रूप से बेहद परेशान हुए।
close