लॉकडाउन में फंसे रह गए तीनों बेटे, बहू ने निभाया फर्ज, सास की चिता को दिया मुखाग्नि!

कडाउन की वजह से वह अपनी मां के अंतिम संस्कार में शामिल नहीं हो सके। मौके पर बहू ने चिता को मुखाग्नि दी तो मौजूद लोगों के आंखों में आंसू छलक पड़ें। लार थाना क्षेत्र के तिलौली गांव की चंद्रशेखर की पत्नी नीतू देवी अपनी सास सुमित्रा देवी व तीन बच्चों को नगर के सोहनाग रोड स्थित एक किराये के मकान में रहती हैं। 
शुक्रवार को उनकी सास सुमित्रा देवी (70) की तबीयत अचानक खराब हो गई। आसपास के लोगों की मदद से नीतू ने उन्हें एंबुलेंस से सीएचसी पहुंचाया। जहां डॉक्टर ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। नीतू ने इसकी सूचना उसने अपने परिवार के लोगों को दी। उसके पास कोई साधन नहीं था कि अपनी सास का शव ले जाकर अंतिम संस्कार करा सकें। उसने अपने पति चंद्रशेखर को बताया तो उन्होंने नीतू से फोन पर कहा कि लॉकडाउन के चलते आसानी से घर नहीं पहुंच सकते। यह बात कह तीनों बेटों ने मां का अंतिम संस्कार करा देने की बात कही।
close