चीन के ‘झूठ’ की कीमत चुका रहा है अमेरिका, कोरोना के ‘गुनहगार’ पर सबसे बड़ा खुलासा, जानकर रह जाओगे दंग

परपावर अमेरिका की सांसे फुली हुई हैं. दुनियाभर को आंख दिखाने वाले अमेरिका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप की निगाहें अपने देश के सामने नीची हैं. रोजाना अमेरिका में कोरोना से मौत और संक्रमण के मामले रिकॉर्ड तोड़ रहे हैं. हालात ये ही कोरोना से मरने वाले लोगों को दफनाने के लिए जगह की कमी हो गई है. 
दुनिया का सबसे ताकतवर मुल्क आज जिस एक वायरस के सामने इतना बेबस दिख रहा है. उसकी बड़ी वजह है चीन पर जरुरत से ज्यादा भरोसा करना. इसका खुलासा खुद अमेरिका के नेशनल इन्स्टीट्यूट ऑफ एलर्जी एंड इन्फेक्शियस डिजीज के डायरेक्टर डॉ. एंथोनी फॉसी ने किया है. अमेरिका के एक निजी टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू में डॉ. एंथोनी ने कहा है कि शुरुआत में हमें पूरी जानकारी हासिल नहीं हुई, चीन में 31 दिसंबर को पहला केस सामने आया.
हमें जानकारी थी कि ये जानवरों से इंसानों में फैला है लेकिन इससे कुछ हफ्तों पहले से ये इंसानों से इंसानों में फैलना शुरू हो चुका था और जब हमें ये जानकारी मिली तो ये बात साफ हो गई थी कि हमें पहले गलत सूचना मिली थी. साफ तौर पर हमें सही जानकारी नहीं दी गई थी.
close