जान लीजिए घर के मंदिर में पूजा पाठ करने की सही विधि, तभी मिल पायेगा देवी-देवताओं का आशीर्वाद..


आज हम इस पोस्ट के माध्यम से पूजा पाठ करने की सही विधि पर प्रकाश डालने वाले हैं, जिनपर आप जरूर गौर कीजिए ताकि आपको अपनी पूजा का फल मिल पाए और देवी-देवताओ का आशीर्वाद आपके ऊपर हमेशा बना रहे।

चलिए जानते हैं पूजा-पाठ के नियमों के बारे में

यदि आप पूजा पाठ कर रहे हैं तो सबसे पहली बात आपको यह ध्यान में रखनी होगी कि मंदिर का स्थान घर के हमेशा पूर्व उत्तर दिशा में रखना चाहिए और जो आप अपने घर में छोटा सा मंदिर स्थापित करेंगे वह लकड़ी का बना होना जरूरी है और आप अपने मंदिर को साफ सुथरा रखें।

आप अपने घर के मंदिर का रंग सदैव हल्का नारंगी या पीले रंग का रखिए, आप भूलकर भी घर के मंदिर का रंग नीला मत रखिए।

आप अपने घर के मंदिर में भगवान श्री गणेश और धन की देवी माता लक्ष्मी जी की प्रतिमा या तस्वीर जरूर रखिए, आप अपने घर के मंदिर में अपने इष्ट देव और अपने कुल गुरु की तस्वीर रखें, आप अपने घर के मंदिर में हमेशा हल्के लाल और पीले रंग का वस्त्र नीचे बिछा कर रखें तथा जल रखने का पात्र तांबे का होना चाहिए, आप तांबे के लोटे में गंगाजल भरकर रखें।

जब आप अपने घर के मंदिर में पूजा पाठ करते हैं तो आप हमेशा पूर्व या उत्तर दिशा की ओर अपना मुंह करके पूजा कीजिए क्योंकि इस दिशा में पूजा करने से आपके मन में उत्साह उत्पन्न होता है, पूजा पाठ करने के लिए सर्वप्रथम मंदिर में भगवान की मंगल मूर्ति की स्थापना कीजिए, उसके बाद पूजा-पाठ कीजिए, आप किसी भी भगवान की मूर्ति स्थापित कर रहे हैं तो आप उस तस्वीर के समक्ष घी का दीपक और धूप अवश्य जलाएं और उसके साथ ही जल से भरा हुआ पात्र रखना ना भूलें
close