एम्बुलेंस नहीं आने पर बाइक चलाकर अस्पताल पहुंच गया कोरोना पॉजिटिव, पूरी कहानी जानकर रह जाओगे दंग

चांदमारी निवासी 41 वर्षीय युवक को तीन से चार अप्रैल के बीच सीने में तेज दर्द हुआ। वह एमआरटीबी अस्पताल गया, जहां से उसे दो दिनों की दवाई दी गई। इसके बाद भी उसे राहत नहीं मिली तो सात अप्रैल को फिर टीबी एंड चेस्ट विभाग पहुंचा। वहां कोरोना की आशंका जताते हुए सैंपल लिए गए और उसे अस्पताल में भर्ती कर लिया गया। 11 अप्रैल तक रिपोर्ट नहीं मिलने पर उसे अस्पताल प्रबंधन ने घर जाने की सलाह दी। इस पर वह घर पहुंच गया। 

12 अप्रैल को दोपहर उसे एमआरटीबी अस्पताल से डॉ. प्रियंका का फोन आया और पॉजिटिव होने की सूचना दी। उससे कहा गया कि वह कहीं न जाए, घर वालों से दूर रहे, हम एंबुलेंस भेज रहे हैं। एक घंटे तक एंबुलेंस का करता रहा इंतजार फोन सुनकर युवक घबरा गया और अपने घर के बाहर आकर बैठ गया। इसी दौरान नगर निगम से पहुंची टीम ने मशीन से दवाई का छिड़काव किया। यह देख आसपास के लोग भी घबरा गए। युवक घर के बाहर ही एंबुलेंस के इंतजार में दो घंटे तक बैठा रहा। 

एंबुलेंस नहीं आई तो उसने वापस फोन किया लेकिन मदद नहीं मिली। उसे अस्पताल प्रबंधन ने अरबिंदो अस्पताल में खुद जाकर भर्ती होने की सलाह तक दे डाली। युवक बाइक से अरबिंदो अस्पताल की तरफ निकल गया। 
close