सड़क पर प्रसव पीड़ा से कराहती महिला को जब कोई मदद नहीं मिली तो पति ने वहीं पर कराया डिलीवरी

गोरखपुर निवासी राजेश यादव ने बताया कि वह दो महीने पहले दिहाड़ी मजदूरी करने के लिए हल्द्वानी आया था। इस समय आरटीओ रोड पर रहकर दिहाड़ी का काम करता है। उसके पास मोबाइल नहीं है। 

शनिवार को उसकी पत्नी सुनीता यादव को प्रसव पीड़ा हुई। अस्पताल जाने के लिए वह डेढ़ बजे आरटीओ रोड पर खड़ा हुआ। इस दौरान कई दोपहिया वाहन गुजरे।

उन्हें रोककर मदद मांगी गई लेकिन कोई नहीं पसीजा। दो घंटे सड़क पर रहने के बाद जब पत्नी की प्रसव पीड़ा बढ़ गई तो वह उसे लेकर घर पहुंच गया। 

देर शाम करीब सात बजे पत्नी ने बच्ची को जन्म दिया। मजबूरी में उसने खुद ही पत्नी का प्रसव कराया। रविवार सुबह उसने मकान मालिक अब्दुल कवि को इसकी जानकारी दी। इसके बाद पार्षद रवि जोशी फरिश्ता बनकर आए। उन्होंने खाने का सामान उपलब्ध कराया और पत्नी को एंबुलेंस से अस्पताल भिजवाया।
close