कोरोना से लड़ते हुए शहीद हुए अमरोहा के डॉ ज़ीशान, आख़िरी साँस तक कोरोना के मरीज़ों का इलाज करते रहे

जब लंदन से दूर उनके राज्य के अख़बार और भारत का मीडिया कोरोना को जिहाद बता रहा था।साथ ही इसे मुसलमानों से जोड़ रहा था। और मुसलमानों के प्रति नफ़रत की जड़ें गहरी कर रहा था। अफ़सोस है। काश मेरी अपील लोगों ने मान ली होती।

 ऐसे अख़बारों को ख़रीदना बंद कर देते और चैनलों को सब्स्क्राइब करने में दो रुपया भी खर्च न करते और न ही यू ट्यूब पर इन्हें देखते। लेकिन लोगों ने मेरी बात नहीं मानी। मान लेते तो ज़हर देखने के बाद लिंक फार्वर्ड का नशा जो छूट जाता।

आपको बता दें कि ब्रिटेन में कोरोना से लड़ते हुए शहीद होने वाले पहले चार डॉक्टर मुसलमान थे। जबकि वह मुसलमानों का इलाज नहीं कर रहे थे। आई टी सेल के चक्कर में समाज ने जो नुक़सान किया है उसकी भरपाई कभी नहीं हो सकती।

लेकिन हिंदुस्तान के लोग जो इंसानियत में यक़ीन रखने वाले हैं वह डॉ ज़ीशान की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना करते हैं। वैसे अब यह जानकारी मिल रही है कि डॉ ज़ी
close