दुनिया के सामने आया कोरोना वायरस का ‘असली चेहरा’, शोधकर्ताओं ने कैद की तस्वीरें’, तस्वीरे देखकर काँप जाओगे

डेलीमेल के अनुसार, तस्वीर खींचने से पहले शोधकर्ताओं ने वायरस को निष्क्रिय कर दिया था। फिलहाल कोरोना वायरस के नमूने को सुरक्षित रखा गया है यह अब तक का सबसे प्रमाणिक रिजल्ट माना जा रहा है।

बता दें की वैज्ञानिक लगातार कोरोनावायरस का इलाज ढूंढने की कोशिश में जुटे हैं वही माना जा रहा है कि कोरोना वायरस की तस्वीर वैज्ञानिकों को इसका इलाज ढूंढने में कारगर साबित हो सकती है। शोधकर्ताओं की टीम की मेंबर प्रोफेसर लियू चुआंग ने बताया कि ‘वायरस की उपस्थिति जो हम देखते हैं, वह बिल्कुल वैसा ही है जैसा कि प्रकृति में होता है।’

लियू चुआंग ने ने बताया कि कोरोनावायरस ने इंसान के शरीर के जिस कोशिका पर आक्रमण किया था। हमने उसकी भी तस्वीरें खींची है। शेनझेन थर्ड हॉस्पिटल के सचिव लियू लेई का कहना है कि इस शोध से कोरोनावायरस के खिलाफ दवाइयों और टीकों के विकास में काफी मदद मिलने वाली है। इसके अलावा कोरोना वायरस की तस्वीरों से उनके जीवन चक्र को भी आसानी से समझा जा सकता है।
close