कोरोना वायरस : पूरे देश में लागू हो सकता है "भीलवाड़ा मॉडल", जानिए क्या है इसकी खासियत, जानिए क्या है भीलवाड़ा मॉडल

राजस्थान के शहर भीलवाड़ा में 19 मार्च को एक ही अस्पताल में दो डॉक्टर कोरोना संक्रमित पाए गए थे। ये दोनों 6,000 से ज्यादा लोगों के संपर्क में आए थे। इससे बाद से यहां कोरोनावायरस का खतरा बढ़ गया था। हालांकि, राज्य सरकार ने भीलवाड़ा में कोरोनावायरस को फैलने से रोकने के लिए आक्रामक रणनीति बनाई और उस पर काबू पा लिया। 30 मार्च से अब तक यहां पर कोरोना का सिर्फ एक मामला आया है। भीलवाडा में अब तक 27 में 15 मरीज ठीक होकर घर गए। 7 पॉजिटिव की रिपोर्ट निगेटिव आई, केवल 3 संक्रमित ही बचे ।

कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए राज्य सरकार ने तुरंत एक्शन लिया और पूरे शहर में कर्फ्यू लगाकर बॉर्डर सील कर दिया गया। जिले की सीमाएं सील करते हुए 14 एंट्री पॉइंट्स पर चेक पोस्ट बनाईं, ताकि कोई भी शहर से न बाहर जा सके और न अंदर आ सके। भीलवाड़ा में कोरोना के आंकड़ों को 27 पर ही रोक दिया गया। 16 हजार स्वास्थ्य कर्मियों की टीम को एक साथ भीलवाड़ा भेजा गया गया। स्वास्थ्य कर्मियों ने घर-घर जाकर स्क्रीनिंग शुरू कर दी।

close