माँ-बाप थे इस बात से अनजान, खुद के बाल नोंचकर खा जाती थी पीड़िता, जब डॉक्टर देखी रिपोर्ट.. वजह जानकर रह जाओगे हैरान

समा की किशोरी की तबीयत काफी बिगड़ गई थी। वह कमजोर हो गई थी। वह जो भी खाती, उसे उल्टी कर देती थी। खाने की इच्छा भी नहीं होती थी। बेटी की इस हरकत से माता-पिता परेशान थे। कई डॉक्टर्स ने उसे हीमोग्लोबिन की कमी बताते हुए उसकी दवाएं देते रहे। किंतु उसे कोई फर्क नहीं पड़ता। आखिर में उसके पिता ने बेटी को एसएसजी में लाकर दिखाया। वहां सोनोग्राफी करने पर बेटी के पेट में बालों का गुच्छा होने का पता चला। इस गुच्छे के कारण भोजन को पेट में जगह नहीं, इसलिए उसे उल्टी हो जाती थी। डॉक्टर ने दो घंटे तक चले ऑपरेशन के बाद बालों के गुच्छे को निकाला।\
]
लगातार तनाव से ऐसा होता है
इस संबंध में डॉ. हिमांशु चौहान का कहना है कि ऐसा आम तौर पर 15 साल के आसपास किशोरियों में देखने को मिलता है। विशेषकर जो लगातार तनाव में रहती हैं। शुरुआत में वे अपने बाल तोड़ती हैं, फिर उसे खाने भी लगती है। इसे ट्राइकोटिलो मेनिया कहते हैं। अभी किशोरी ठीक है। चार महीने बाद उसकी तबीयत में सुधार आने लगेगा।
वह कब से बाल खा रही थी, हमें नहीं पता
close